स्वास्थ्य

रात का खाना जल्दी खाने से नहीं बिगड़ने वाली ब्लड शुगर लेवल, जानिए क्यों

रात में जल्दी खाने से ब्लड शुगर और फैट मेटबॉलिज्म अच्छा रहता है।

नए शोध में सामने आया है कि केवल यही अर्थ नहीं रखता है कि आप क्या खा रहे हैं, लेकिन कब खा रहे हैं यह भी महत्वपूर्ण है।

  • आखरी अपडेट:8 नवंबर, 2020, 7:37 AM IST

उम्र के साथ स्वस्थ वजन बनाए रखने का संघर्ष बढ़ता जाता है क्योंकि मेटबॉलिज्म (मेटाबॉलिज्म) कम होने का लगता है और पहले की तरह काम नहीं करता है। मेटबॉलिज्म एक प्रक्रिया है, जिसके माध्यम से शरीर के भोजन को ऊर्जा में बदल जाता है। उम्र बढ़ने के साथ ब्लड शुगर के स्तर को बनाए रखने के लिए जरूरी कदम उठाने की जरूरत होती है। आहार से वजन और ब्लड शुगर के स्तर पर खासा प्रभाव पड़ता है, लेकिन नए शोध में सामने आया है कि केवल यही अर्थ नहीं रखता है कि आप क्या खा रहे हैं, लेकिन जब खा रहे हैं तो यह भी महत्वपूर्ण है। मायअपचर के अनुसार, खून में मौजूद शुगर या ग्लूकोस का स्तर बहुत ज्यादा बढ़ने से डायबिटीज की समस्या हो सकती है। खाना खाने से ग्लूकोस मिलता है और इंसुलिन नामक हार्मोन इस ग्लूकोस को शरीर की कोशिकाओं में पहुंचाने में मदद करता है, ताकि उन्हें एनर्जी मिल संभव हो सके।

कई शोध इस विचार का समर्थन करते हैं कि व्यक्ति कब भोजन करता है यह उतना ही महत्वपूर्ण है, जैसा कि मधुमेह में उसने क्या शामिल किया है। एंडोक्राइन सोसाइटी के जर्नल ऑफ क्लिनिकल एंडोक्रिनोलॉजी और मेटबॉलिज्म में प्रकाशित अध्ययन के नतीजों से पता चला है कि रात में जल्दी खाने से ब्लड शुगर और फैट मेटबॉलिज्म अच्छा रहता है। जॉन एप्सकैंस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह पता लगाया कि रात का खाना देर से खाना वास्तव में वजन और ब्लड शुगर बढ़ने से जुड़ा है। अध्ययन के लिए 20 भागों को लिया गया था, जिसमें 10 पुरुष और 10 महिलाएं थीं। शोधकर्ताओं ने पाया कि रात 10 बजे खाना खाने से प्रतिभागियों का मेटबॉलिज्म कैसे प्रभावित होता है।

वहीं, शाम 6 बजे खाना खाने और रात को 11 बजे सोने चले जाने का क्या असर होता है। इन प्रतिभागियों के शरीर में पहले से फैट कम था। इस प्रयोग के दौरान उन्होंने अपनी नींद और हृदय गति जैसी चीजों की निगरानी के लिए ‘एक्टीस ट्रैकर्स’ को पहना था। निष्कर्षों की पढ़ाई के लिए उन्हें एक जैसा खाना खाने के लिए दिया गया। शोधकर्ताओं ने पाया कि देर रात खाना पकाने हाई ब्लड शुगर और धीरे मेटबॉलिज्म से जुड़ा था। नतीजों में बताया गया कि भागीदारों के एक जैसा खाना खाने पर भी जल्दी खाना खाने वालों की तुलना में रात 10 बजे खाना खाने वालों में ब्लड शुगर का स्तर 20 प्रतिशत बढ़ गया, जबकि फैट कम होने में 10 प्रतिशत की कमी आई थी।अधिक जानकारी के लिए हमारा कलात्मक, शुगर पढ़ें। न्यूज 18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखित जाते हैं। स्वास्थ्य से संबंधित खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और चिकित्सक, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़े सभी बदलाव आते हैं।

टीकाकरण: इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ विशेष स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहाँ बताया गया है तो जल्द ही जल्द ही डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही न्यूज़पेपर जिम्मेदार होगा।




Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button