स्वास्थ्य

मीठे ड्रिंक्स पीने से बढ़ सकता है हार्ट अटैक का खतरा: शोध में खुलासा

मीठे ड्रिंक्स जियालदा पीने से हार्ट अटैक और क्लॉट स्ट्रोक आदि होने की संभावना बढ़ जाती है।

शुगर ड्रिंक्स (सुगर ड्रिंक्स) में आर्टिफिशियल तरीके से बने पेय पदार्थ (पेय) हेल्दी चीज नहीं है। इन मीठे पेय को पीने वाले लोगों में हार्ट अटैक (हार्ट अटैक) आने का 20 प्रतिशत जोखिम बताया गया है।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:29 अक्टूबर, 2020, 6:32 AM IST

एक स्टडी (अध्ययन) में पाया गया है कि कृत्रिम रूप से बने मीठे पेय पदार्थ (स्वीट ड्रिंक्स) हार्ट (हार्ट) के लिए हानिकारक है। सोरबॉन परिषद नोर्ड यूनिवर्सिटी के न्यूट्रीशनल एपिडिम सियोलोज़ी रिसर्च टीम (रिसर्च टीम) ने अपने बयान में कहा कि शुगर ड्रिंक्स में आर्टिफिशियल तरीके से बने पेय पदार्थ हेल्दी चीज नहीं है। इससे पहले 2019 में भी एक अध्ययन में कहा गया था कि जो महिलाएं दिन में दो से ज्यादा शुगर ड्रिंक्स पीती हैं। उनमें समय से पहले मृत्यु का जोखिम 63 प्रति तक बढ़ गया। पेय पदार्थ को बोतल, कैनक या गिलास में परिभाषित किया गया है। आदमियों के समय से पहले मृत्यु का जोखिम 29 प्रति तक बताया गया।

अमेरिकन जर्नल ऑफ़ कार्ड कार्डोजी में नई स्टडी सोमवार को प्रकाशित हुई जिसमें एक लाख AF फ्रेंच वोलंटियर्स का डेटा विश्लेषण किया गया है। उन्हें तीन ग्रुप में बांट दिया गया। ये कम उपयोग करने वाले, ज्यादा इस्तेमाल करने वाले और बिलकुल भी मीठे पेय नहीं पीने वाले तीन दिनों तक रखे जाते हैं। कृत्रिम मीठे पदार्थ नहीं पीने वाले लोगों से ज्यादा पीने वालों की तुलना की गई, तो ज्यादा कृत्रिम मीठा पेय पीने वाले लोगों में कभी भी हार्ट अटैक आने का 20 प्रतिशत जोखिम बताया गया। इसके अलावा शकर के पदार्थ सबसे ज्यादा पीने वालों पर भी यही परिणाम देखा गया।

ये भी पढ़ें – न्यूमोकोकल लगवाते समय ये साइड इफेक्ट्स का ध्यान रखें

हालांकि शोधकर्ताओं ने कहा कि स्टडी में प्रत्यक्ष कारण नहीं है, सिर्फ एक दावा किया गया है। इससे पहले भी 2019 की एक रिसर्च में सामने आया था कि दो और उससे ज्यादा किसी तरह की कृत्रिम मीठे पदार्थ पीने पर महिलाओं में समय से पहले मौत का 50 प्रतिशत जोखिम है। इसमें हार्ट अटैक और क्लॉट स्ट्रोक आदि रोग होने की संभावना जताई गई।अगर कृत्रिम पेय पीने की आदत है, तो क्या करें?

विशेषज्ञों का कहना है कि पीने का पानी एक अच्छा विकल्प है। भले ही यह कार्बोनेटेड ही क्यों न हो। एक घड़ा खरीदकर इसमें अपने पसंदीदा फल जैसे नीम्बू, तरबूज या अन्य फलों के पानी के साथ मिलाएं और उस पानी को पी सकते हैं। यह आपको मिठाई प्रदान करेगा।

ये भी पढ़ें – आईवीएफ तकनीक के जरिए बनना चाहते हैं माता-पिता, जान लें ये बातें

मीठा पदार्थ पीने के लिए छोटी चुनौती स्वीकार करें, इससे कुछ दिनों बाद आपका टेस्ट बदल सकता है। एक बार ऐसा करने के बाद प्राकृतिक पदार्थों में मिला शकर की आदत आपको हो सकती है।




Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button