विदेश

अमेरिकी सांसद बिडेन प्रशासन के लिए: भारत को तुरंत एस्ट्राजेनेका वैक्सीन स्टॉकपिल जारी करें अमेरिकी सांसद टॉम मालिनोवस्की की बिडेन से अपील, कोरोना से जंग के लिए भारत को तुरंत एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन

कृष्णटन: अमेरिका (अमेरिका) से भारत (भारत) पहुंच रही ‘कोरोना राहत’ कुछ देर के लिए प्रभावित हुई है। अमेरिका के रक्षा विभाग का कहना है कि भारत के लिए COVID-19 सहायता के बारे में जाने वालीं उड़ान में बुधवार तक रोकना पड़ा है। यह देरी में अनंत से संबंधित समस्याओं की वजह से हुई है। बता दें कि अमेरिका सहित दुनिया के कई देश इस मुश्किल वक्त में भारत की मदद कर रहे हैं। दिल्ली आंतरिक हवाई अड्डे पर पिछले पांच दिनों में 25 उड़ानें 300 टन को विभाजित -19 राहत सामग्री के साथ पहुंची हैं।

अमेरिका हर कदम पर भारत के साथ

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन (जो बिडेन) पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि कोरोना (कोरोना-वायरस) से जंग में वह भारत के साथ हैं। इस बीच, अमेरिका के एक योग्य सांसद ने सरकार से अनुरोध किया है कि एस्ट्राजेनेका (एस्ट्राजेनेका) की कोरोना वैक्सीन तत्काल भारत भेजी जाए। सांसद टॉम मालिनोव्स्की (टॉम मालिनोवस्की) ने ऑक्सीजन, भंडारण उपकरण, वेंटिलेटर और वैक्सीन भारत को भेजने के लिए रक्षा विभाग सहित अमेरिका के हरसंभव संसाधनों को सक्रिय करने की भी सरकार से अपील की है।

ये भी पढ़ें-बिलम हुआ बिल और मेलिंडा गेट्स का 27 साल का रिश्ता, तलाक की घोषणा के साथ कहा, ‘अब’ के साथ रह सकते हैं ‘

जल्द ही जल्द ही निर्णय लें

सांसद ने कहा कि अमेरिका में उपलब्ध एस्ट्राजेका के ऐसे टीके भारत सहित सभी जरूरतमंद देशों को भेजे जाने चाहिए, जिनका इस्तेमाल यूएस नहीं कर रहा है। मैंने सरकार से अपील की है कि इस संबंध में जल्द से जल्द फैसला लिया जाए। बता दें कि भारत कोरोनावायरस संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है और यहां बीते कुछ दिनों से रोजाना तीन लाख से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं। अस्पतालों में विकासशील ऑक्सीजन ऑक्सीजन के साथ-साथ बिस्तरों की भी काफी कमी है।

WHO ने दिया ये बयान

वहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का कहना है कि वैश्विक गठबंधन कोवैक्स को भारत में वैक्सीन की बढ़ती मांग के कारण बाधित हुई आपूर्ति को पूरा करने के लिए तत्काल बड़ी संख्या में टीकों की जरूरत है। WHO द्वारा जारी किए गए में कहा गया है कि भारत में टीके की बढ़ती मांग के कारण टीके की आपूर्ति में आया अवरोध को दूर करने के लिए कोविक्स को तत्काल दो करोड़ खुराक की जरूरत है, ताकि दुनिया को समान आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके। गौरतलब है कि भारत एस्ट्रजानेका टीके का सबसे बड़ा भारत है।

अब तक मिला है इसलिए राहत

कोरोना से जंग में जान से भारत के लिए मदद पहुंच रही है। 28 अप्रैल से दो मई के बीच, पांच दिनों में लगभग 25 उड़ानें दिल्ली हवाई अड्डे पहुंचेंगी जिनमें लगभग 300 टन सामान था। ये उड़ानें अमेरिका, ब्रिटेन, संयुक्त अरब अमीरात, उज्बेकिस्तान, थाईलैंड, जर्मनी, कतर, चीन और चीन आदि जैसे विभिन्न देशों में आई थीं। इनसे 5500 ऑक्सीजन सिन्ड्रक, 3200 ऑक्सीजन सिलेंडर, 9,28,000 से अधिक फैक्टर, 1,36,000 रेमेडेसिवर इंजेक्शन भारत पहुंचे हैं।

Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

please disable the AdBlock